लिखिए अपनी भाषा में

SCROLL

FREE होम रेमेडी पूछने के लिए फ़ोन करें 09414989423 ( drjogasinghkait.blogspot.com निशुल्क - मनोरंजन हेतू ब्लोग देखे atapatesawaldrkait.blogspot.com निशुल्क - myphotographydrkait.blogspot.com ) (१)व्यक्ति पहले धन पाने के लिए सेहत बरबाद करता है ,फिर सेहत पाने के लिए धन बरबाद करता है (२)अपने आप को बीमार रखने से बढ कर कोई पाप नहीं है (३)खड़े-खड़े पानी पीने से घुटनों में दर्द की शिकायत ज़ल्दी होती है ,बैठ कर खाने- पीने से घुटनों का दर्द ठीक हो जाता है (४)भोजन के तुरंत बाद पेशाब करने की आदत बनायें तो किडनी में तकलीफ नहीं होगी (५)ज़बडा भींच कर शौच करने /पेशाब करने से हिलाते हुए दांत/दाड़ पूरी तरहां से जम जाते हैं (६)महत्त्व इस बात का नहीं की आप कितना ऊँचा उठे हैं (तरक्की की ),महत्त्व इस बात का है की आपने कितने लोगों की तरक्की में हाथ बटाया(7)होम रेमेडी और भी हैं ,ब्लॉग विजिट करते रहें मिलते है एक छोटे से ब्रेक के बाद

कुल पेज दृश्य

मेरे बारे में

समर्थक

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

FLAG COUNTER

free counters

गुरुवार, 12 मई 2011

SEMINAR NEWS(m.r.m.nirwana)

आज दिनांक १२-०५-२०११ को मोटा राम मील कोलेज
 निरवाना में प्राकृतिक चिकित्सा पर निशुल्क  सेमिनार
 आयोजित किया गया .मुख्य वक्त रहे डॉ जोगासिंह कैत
 मुख्य अतिथि थे श्री जैमल मील ,विशिस्थ अतिथि थे 
श्री सत्येन्द्र कुमार सूरा,श्री देवेंदर कुमार रोकणा.
कोलेज की छात्रायों ने अतिथियों के तिलक लगाकर
 स्वागत किया .प्राचार्य श्री अरविन्द गोड़ ने बुक्के देकर
 स्वागत किया .सेमिनार का आरम्भ किया
 श्री सत्येन्द्र कुमार सूरा ने इन्होने समय,धन,सेहत की
 बचत पर जोर दिया .बाद में डॉ. जोगा सिंह कैत ने दो घंटे
 तक प्राकृतिक-चिकित्सा,होम रेमेडी,नुस्खे छात्र /छात्रायों 
को बताये .सिजेरियन डिलीवरी से बचने की सलाह दी,
कन्या -भ्रूण हत्या रोकने के लिए पाबंद किया,रक्त दान ,
नेत्र दान के लिए प्रेरित किया ,जिज्ञासायों का समाधान
 किया श्री जैमल जी ने स्मृतिचिन्ह देकर सम्मानित किया ,
तत्पशचात संस्थान के प्रबंध निदेशक कर्नल सुनीलदत्त जी
 से  डॉ. जोगा सिंह कैत की लम्बी बात हुयी .
पुराने श्रोता व प्रिसिपल श्री अरविन्दजी गौड़ 

 प्रिसिपल श्री अरविन्दजी गौड़ को अपनी पुस्तक भेंट करते डॉ.जोगा सिंह 

श्रीसत्येद्र कुमार सूरा 

कोलेज की छात्राएं /छात्र व व्याख्याता 

कोलेज की छात्राएं /छात्र व व्याख्याता 

डॉ.जोगा सिंह का संबोधन 

डॉ.जोगा सिंह का संबोधन 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें