लिखिए अपनी भाषा में

SCROLL

FREE होम रेमेडी पूछने के लिए फ़ोन करें 09414989423 ( drjogasinghkait.blogspot.com निशुल्क - मनोरंजन हेतू ब्लोग देखे atapatesawaldrkait.blogspot.com निशुल्क - myphotographydrkait.blogspot.com ) (१)व्यक्ति पहले धन पाने के लिए सेहत बरबाद करता है ,फिर सेहत पाने के लिए धन बरबाद करता है (२)अपने आप को बीमार रखने से बढ कर कोई पाप नहीं है (३)खड़े-खड़े पानी पीने से घुटनों में दर्द की शिकायत ज़ल्दी होती है ,बैठ कर खाने- पीने से घुटनों का दर्द ठीक हो जाता है (४)भोजन के तुरंत बाद पेशाब करने की आदत बनायें तो किडनी में तकलीफ नहीं होगी (५)ज़बडा भींच कर शौच करने /पेशाब करने से हिलाते हुए दांत/दाड़ पूरी तरहां से जम जाते हैं (६)महत्त्व इस बात का नहीं की आप कितना ऊँचा उठे हैं (तरक्की की ),महत्त्व इस बात का है की आपने कितने लोगों की तरक्की में हाथ बटाया(7)होम रेमेडी और भी हैं ,ब्लॉग विजिट करते रहें मिलते है एक छोटे से ब्रेक के बाद

कुल पेज दृश्य

मेरे बारे में

समर्थक

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

FLAG COUNTER

free counters

शनिवार, 2 जुलाई 2011

HOME REMEDY(kidany ki pathary)

HOME REMEDY(kidany ki pathary)
किडनी की पथरी

खान-पान आदि में गड़बड़ी,भोजन का पाचन ठीक न होना,समय से
शौच,पेशाब न जाना,व रोके रखना आदि कारणों से शरीर के भिन्न-२ 
हिस्सों में रूकावट होने से भिन्न-२ रोग पैदा हो जातें हैं.रुकावटों के
 कारण ही किडनी में पथरी बननें लगती है,समय पर ध्यान न देने 
के कारण ये बढ़ने लगती है,जब तक दर्द नहीं होता हम ध्यान ही
 नहीं देते,कई बार छोटी पथरी अपने आप ही निकल जाती है.यदि
 पथरी किडनी में है तो निकलना आसान होता है,यदि युरेटर 
(किडनी से मूत्राशय को जोड़ने वाली नली)में फंस जाये और साईज

 बड़ी हो तो ओपरेशन ही सहारा होता है,




यदि छोटी हो तो दवा से
 निकालने का प्रयास सफल हो जाता है 
ओपरेशन से डरने वालों को दवा खाना अच्छा लगता है 
मेरे अनुभव के अनुसार प्रयोग की गयी सफल रेमेडी जनकल्याण 
हेतु प्रस्तुत कर रहा हूँ, आशा करता हूँ ,आपका कष्ट शीघ्र दूर होगा 
वरुण की छाल २००ग्राम,पाषाणभेद(पत्थरचट्टा) २०० ग्राम,
गोखरू ५० ग्राम,दो लीटर पानी में उबालें पानी आधा रहने पर 
कपडे से छाने,बोतल में भर लें,इसमें १०० ग्राम शहद,
१० ग्राम शुद्ध शिलाजीत,स्वाद के अनुसार गुड मिलाएं.
इसे २० ग्राम की मात्रा में सुबह -शाम सेवन करें .
यदि दर्द हो तो इन्दर जौँ १०० ग्राम,सफ़ेद निशोथ १०० ग्राम का चूरण
 बनायें ,१-१ चम्मच की मात्रा में गर्म पानी से लें ,२-३ सप्ताह में ही 
पथरी घुलकर निकल जाती है,यदि पथरी छोटी सी ही तो 
पाषाणभेद(पत्थरचट्टा)के  ३ पत्ते रोज़ निराहार खाने से भी पथरी
 निकल जाती है 
(यदि आपको इससे फायदा हो तो 
सूचना ज़रूर देने का कष्ट करें 
09414989423)

2 टिप्‍पणियां: