लिखिए अपनी भाषा में

SCROLL

FREE होम रेमेडी पूछने के लिए फ़ोन करें 09414989423 ( drjogasinghkait.blogspot.com निशुल्क - मनोरंजन हेतू ब्लोग देखे atapatesawaldrkait.blogspot.com निशुल्क - myphotographydrkait.blogspot.com ) (१)व्यक्ति पहले धन पाने के लिए सेहत बरबाद करता है ,फिर सेहत पाने के लिए धन बरबाद करता है (२)अपने आप को बीमार रखने से बढ कर कोई पाप नहीं है (३)खड़े-खड़े पानी पीने से घुटनों में दर्द की शिकायत ज़ल्दी होती है ,बैठ कर खाने- पीने से घुटनों का दर्द ठीक हो जाता है (४)भोजन के तुरंत बाद पेशाब करने की आदत बनायें तो किडनी में तकलीफ नहीं होगी (५)ज़बडा भींच कर शौच करने /पेशाब करने से हिलाते हुए दांत/दाड़ पूरी तरहां से जम जाते हैं (६)महत्त्व इस बात का नहीं की आप कितना ऊँचा उठे हैं (तरक्की की ),महत्त्व इस बात का है की आपने कितने लोगों की तरक्की में हाथ बटाया(7)होम रेमेडी और भी हैं ,ब्लॉग विजिट करते रहें मिलते है एक छोटे से ब्रेक के बाद

कुल पेज दृश्य

मेरे बारे में

समर्थक

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

FLAG COUNTER

free counters

सोमवार, 22 अगस्त 2011

LAW OF NATURE

 प्रकृति के नियम 
(१)जो लोग प्रकृति की रक्षा  करतें हैं,प्रकृति उनकी रक्षा करती है 
(२)प्राक्रतिक नियमों की अनदेखी करने वालों को प्रकृति कभी 
    माफ़ नहीं करती
(३)जानवर भी प्रकृति की सौंधी मिटटी के सम्पर्क में रहने के 
     कारण बीमार नहीं पड़ते.
(४)पसीना आने पर चिडिया भी मिटटी में नहाती है

(५)कबूतर सर्दी में पानी में नहाता है.

(६)गधा भी मिटटी या रख में लोट लगाता है.

(७)सुयर भी गर्मी से बचने के लिए कीचड़ में लेटता है.

(८)साधू लोग भी स्वस्थ रहने के लिए शरीर पर राख का लेप करते हैं

(९)सिर्फ उल्लू ही ऐसा कुछ नहीं करता 

(१०)कहने का मतलब ये है कि हमारा शरीर पांच तत्वों से
     (जल,मिटटी,अग्नि ,वायु और आकाश )मिलकर बना है,
      ये इन्हीं के सम्पर्क में रहकर स्वस्थ रह सकता है.हमने सब उलटा 
     कर रखा है,मकानों में रहने के कारण हमने इन पांचों से नाता तोड़ 
     रखा है,हम बनावटी हवा पानी अग्नि  के आदि हो गए ,
     आकाश-मिटटी से कोई नाता नहीं रखा,ऋतू फलों का सेवन भी
     बिना ऋतू के करतें हैं.
     ऐसे में स्वस्थ रहने की कल्पना भी नहीं की जा सकती.

3 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत अच्छी प्रस्तुति!
    श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपको एवं आपके परिवार को जन्माष्टमी की हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं