लिखिए अपनी भाषा में

SCROLL

FREE होम रेमेडी पूछने के लिए फ़ोन करें 09414989423 ( drjogasinghkait.blogspot.com निशुल्क - मनोरंजन हेतू ब्लोग देखे atapatesawaldrkait.blogspot.com निशुल्क - myphotographydrkait.blogspot.com ) (१)व्यक्ति पहले धन पाने के लिए सेहत बरबाद करता है ,फिर सेहत पाने के लिए धन बरबाद करता है (२)अपने आप को बीमार रखने से बढ कर कोई पाप नहीं है (३)खड़े-खड़े पानी पीने से घुटनों में दर्द की शिकायत ज़ल्दी होती है ,बैठ कर खाने- पीने से घुटनों का दर्द ठीक हो जाता है (४)भोजन के तुरंत बाद पेशाब करने की आदत बनायें तो किडनी में तकलीफ नहीं होगी (५)ज़बडा भींच कर शौच करने /पेशाब करने से हिलाते हुए दांत/दाड़ पूरी तरहां से जम जाते हैं (६)महत्त्व इस बात का नहीं की आप कितना ऊँचा उठे हैं (तरक्की की ),महत्त्व इस बात का है की आपने कितने लोगों की तरक्की में हाथ बटाया(7)होम रेमेडी और भी हैं ,ब्लॉग विजिट करते रहें मिलते है एक छोटे से ब्रेक के बाद

कुल पेज दृश्य

मेरे बारे में

समर्थक

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

FLAG COUNTER

free counters

शुक्रवार, 16 मार्च 2012

लहसुन खाइए लहसुन के सप्लीमेंट्स नहीं


ND
घरेलू मसालों तथा औषधियों का उपयोग अक्सर छोटी-मोटी बीमारियों में धड़ल्ले से किया जाता है। दादी-नानी के नुस्खों में कहें या ट्रेडिशनल विज्डम के रूप में, हल्दी से लेकर लौंग तक और प्याज से लहसुन तक लगभग हर चीज औषधीय गुण से भरी होती है। यह बात बहुत हद तक सही भी है, लेकिन यहां यह गौर करना जरूरी है कि ऐसी किसी भी औषधि का असर प्रत्येक व्यक्ति पर अलग-अलग हो सकता है। 

एलोपैथी या चिकित्सक द्वारा सुझाई गई दवाइयों को अक्सर प्रत्येक व्यक्ति की शारीरिक क्षमता, संरचना और तासीर के हिसाब से दिया जाता है, जबकि घरेलू दवाइयां हम अक्सर बिना किसी ऐसी पूछताछ या मार्गदर्शन के ही ले लेते हैं। लहसुन का प्रयोग भी इसी श्रेणी में आता है। हृदयरोगियों के लिए यह बहुत अच्छा है या फिर इससे रक्त का शुद्धिकरण होता है आदि कहकर अक्सर लोग लहसुन की कलियों का सेवन करते हैं। इससे भी एक कदम आगे जिन लोगों के घर में लहसुन का प्रयोग वर्जित होता है या जिन्हें लहसुन की गंध पसंद नहीं होती, वे लहसुन के सप्लीमेंट्स धड़ल्ले से ले लेते हैं। यदि आप भी ऐसे लोगों में से हैं तो जरा गौर कीजिए। 

चिकित्सकों, विशेषज्ञों तथा जानकारों के अनुसार ऐसे किसी भी प्रयोग के पूर्व लहसुन के सप्लीमेंट्स किस तरह बनाए गए हैं, उन्हें कब पैक किया गया है, उसमें कितने पुराने लहसुनों का प्रयोग किया गया है तथा वे पावडर, तेल अथवा गंधरहित लहसुन सत्व किस रूप में लिए जा रहे हैं, इन सभी बातों पर ध्यान देना जरूरी होता है। 

यही नहीं, इसको किस मात्रा में लेना है, यह भी जानना जरूरी होता है। बाजार में मिलने वाले कई ब्राण्ड्स अक्सर ऐसे उत्पादों का बढ़ा-चढ़ा कर गुणगान करते हैं, लेकिन यह सब कुछ अधिकांशतः उपभोक्ता को प्रभाव में लेने के तरीके होते हैं। इनमें से कई तो मानक पैमाने तक के आसपास नहीं होते और कुछ में तो हानिकारक तत्व होते हैं, जो आप पर उलटा असर कर सकते हैं। 

खासतौर पर डाइबिटीज, उच्च रक्तचाप, कैंसर, हाई कोलेस्ट्रॉल तथा ऐसे ही रोग से ग्रस्त व्यक्तियों को इनका सेवन बहुत ध्यान से या नहीं ही करना चाहिए। यदि आप पहले से कोई दवाई ले रहे हैं और साथ में ऐसे किसी सप्लीमेंट का भी प्रयोग करते हैं तो यह और भी हानिकारक सिद्ध हो सकता है। यह हमेशा ध्यान रखिए कि एक दक्ष तथा जानकार चिकित्सक हमेशा आपकी जांच तथा रोग इतिहास की जानकारी लेने के बाद आपको दवा देता है। इसलिए उसका विकल्प और कुछ भी नहीं हो सकता।

1 टिप्पणी: