लिखिए अपनी भाषा में

SCROLL

FREE होम रेमेडी पूछने के लिए फ़ोन करें 09414989423 ( drjogasinghkait.blogspot.com निशुल्क - मनोरंजन हेतू ब्लोग देखे atapatesawaldrkait.blogspot.com निशुल्क - myphotographydrkait.blogspot.com ) (१)व्यक्ति पहले धन पाने के लिए सेहत बरबाद करता है ,फिर सेहत पाने के लिए धन बरबाद करता है (२)अपने आप को बीमार रखने से बढ कर कोई पाप नहीं है (३)खड़े-खड़े पानी पीने से घुटनों में दर्द की शिकायत ज़ल्दी होती है ,बैठ कर खाने- पीने से घुटनों का दर्द ठीक हो जाता है (४)भोजन के तुरंत बाद पेशाब करने की आदत बनायें तो किडनी में तकलीफ नहीं होगी (५)ज़बडा भींच कर शौच करने /पेशाब करने से हिलाते हुए दांत/दाड़ पूरी तरहां से जम जाते हैं (६)महत्त्व इस बात का नहीं की आप कितना ऊँचा उठे हैं (तरक्की की ),महत्त्व इस बात का है की आपने कितने लोगों की तरक्की में हाथ बटाया(7)होम रेमेडी और भी हैं ,ब्लॉग विजिट करते रहें मिलते है एक छोटे से ब्रेक के बाद

कुल पेज दृश्य

मेरे बारे में

समर्थक

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

FLAG COUNTER

free counters

शुक्रवार, 24 जून 2011

COMMENTS


‎"जो कल तक मेरे बेटे थे,वो आज मेरे पडोसी हैं "
"जो कल तक मेरे बेटे थे,वो आज मेरे पडोसी हैं "

जिनको पाला पोसा,बड़ा किया
सोचा दुःख-सुख में साथ निभाएंगे
...See more
19 June at 23:17 ·  ·  · 
    • Mahendar Toksia bilkul sahi hai....
      19 June at 23:23 ·  ·  1 person
    • Amar Bhati WHAT A JOKE. AISI AULAD SE TO BAULAD JAYADA KUSH RAHTE HAIN.
      19 June at 23:27 ·  ·  1 person
    • Jay Bhargav dr g tem tem g bat h.
      19 June at 23:32 ·  ·  1 person
    • Amar Bhati KAISA HAI YE SAMA BDHANGA INSAN GHOOM RAHA HAI NANGA. KISI NE SAHI HI LIKHA HAI.
      20 June at 00:12 ·  ·  1 person
    • Chitra S. Beniwal gurudev , aaj waqt hi aisa h ki kisi or ke baare me kuchh na kahe to behtar h .
      20 June at 01:28 ·  ·  1 person
    • Amritpal Amrit बिल्कुल सही लिखा है आपने।
      20 June at 06:47 ·  ·  1 person
    • Rajaram Legha jogi ji aajkal sanskar bhi nahi dete h hum apne bachcho ko sirf paisa kamane ke liye hi taiyar karte h hum apne bachcho ko esliye ye hall h
      20 June at 07:20 ·  ·  1 person
    • Drjoga Singh Kait Jogi Ramesh Sharma Bahia, Prithvi Parihar, Ramesh Chandra Jangir ji thanx
      20 June at 18:59 · 
    • Satyendra Kumar Sura sir thanks for open our eyies for sanskar.
      20 June at 21:23 ·  ·  1 person
    • Mukesh Raghav ‎@ Rajaram Ji , Please read again., The pain of Father is reflecting in the poem.Pure kuen mein Bhang pari hae. Poem maein , there is no mention of money. Don't mind. Regards
      20 June at 21:25 ·  ·  1 person
    • Dharampal Verma Dr. ji AGAR HUM UNKE PADOUSI NA HOTE TO AAJ YE BHI HUMARE PADOUSI KYON HOTE ??
      Tuesday at 09:45 ·  ·  1 person
    • Deendayal Sharma ap kursi pr baithe kya kr rhe ho....?
      Tuesday at 16:39 ·  ·  1 person
    • Drjoga Singh Kait Jogi heart atteak se bachane ki koshish kar raha hun sir
      Tuesday at 17:40 · 
    • Harikishan Nayak sahi hai ji.... halat vastav me aise hi ban gaye hai....

1 टिप्पणी: