लिखिए अपनी भाषा में

SCROLL

FREE होम रेमेडी पूछने के लिए फ़ोन करें 09414989423 ( drjogasinghkait.blogspot.com निशुल्क - मनोरंजन हेतू ब्लोग देखे atapatesawaldrkait.blogspot.com निशुल्क - myphotographydrkait.blogspot.com ) (१)व्यक्ति पहले धन पाने के लिए सेहत बरबाद करता है ,फिर सेहत पाने के लिए धन बरबाद करता है (२)अपने आप को बीमार रखने से बढ कर कोई पाप नहीं है (३)खड़े-खड़े पानी पीने से घुटनों में दर्द की शिकायत ज़ल्दी होती है ,बैठ कर खाने- पीने से घुटनों का दर्द ठीक हो जाता है (४)भोजन के तुरंत बाद पेशाब करने की आदत बनायें तो किडनी में तकलीफ नहीं होगी (५)ज़बडा भींच कर शौच करने /पेशाब करने से हिलाते हुए दांत/दाड़ पूरी तरहां से जम जाते हैं (६)महत्त्व इस बात का नहीं की आप कितना ऊँचा उठे हैं (तरक्की की ),महत्त्व इस बात का है की आपने कितने लोगों की तरक्की में हाथ बटाया(7)होम रेमेडी और भी हैं ,ब्लॉग विजिट करते रहें मिलते है एक छोटे से ब्रेक के बाद

कुल पेज दृश्य

मेरे बारे में

समर्थक

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

FLAG COUNTER

free counters

गुरुवार, 21 जुलाई 2011

B.B.C. KE SAABHAAR


'टीबी के लिए रक्त जाँच ग़लत'

टीबी मरीज
डब्लूएचओ का कहना है कि टेस्ट की रिपोर्ट ग़लत होती है
विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लूएचओ) के मुताबिक़ टीबी का पता लगाने के लिए होने वाली ख़ून की जाँच ग़लत है और इस पर पाबंदी लगा देनी चाहिए.
हर साल 20 लाख से ज़्यादा ऐसे टेस्ट होते हैं, लेकिन डब्लूएचओ का कहना है कि इनसे बीमारी का सही पता नहीं चलता और इस कारण लोगों का ग़लत इलाज भी होता है.
संगठन का कहना है कि इस तरह के टेस्ट लोगों की ज़िंदगी ख़तरे में डालते हैं. टीबी का पता लगाने के लिए होने वाली ख़ून की जाँच करोड़ों का व्यवसाय है.
जिन देशों में टीबी का स्तर ज़्यादा है, वहाँ मरीज़ ऐसे एक टेस्ट के लिए 1500 रुपए तक देते हैं. लेकिन विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक़ उनका पैसा बेकार जा रहा है.
ऐसे टेस्टिंग किट्स की समीक्षा के बाद संगठन ने दावा किया है कि कम से कम 50 प्रतिशत मामलों में इनकी रिपोर्ट ग़लत होती है.
और तो और ये टेस्ट कई बार टीबी बैक्टीरिया का पता नहीं लगा पाते, जिससे उन लोगों को ये कह दिया जाता है कि उन्हें टीबी है ही नहीं, जबकि उन्हें ये बीमारी होती है.

अनैतिक

इसके उलट कई बार इस जाँच से ऐसे लोगों में भी टीबी होने की बात सामने आ जाती है, जिन्हें दरअसल टीबी होता ही नहीं है. इस कारण ऐसे लोग बिना बीमारी के इलाज करा रहे होते हैं.
डब्लूएचओ का कहना है कि बाज़ार में ऐसे कम से कम 18 टेस्टिंग किट्स हैं. इनमें से ज़्यादातर यूरोप और उत्तरी अमरीका में बनाए जाते हैं. लेकिन कड़े नियमों के कारण इनकी बिक्री वहाँ नहीं होती.
लेकिन विकासशील देशों में ऐसा नहीं है. विश्व स्वास्थ्य संगठन का कहना है कि ये अनैतिक है. संगठन के डॉक्टर कैरेन वेयर के मुताबिक़ ऐसे टेस्ट लोगों का जीवन ख़तरे में डाल रहे हैं.
डब्लूएचओ ने देशों से अपील की है कि वे इन टेस्टिंग किट्स पर पाबंदी लगाएँ. संगठन का कहना है कि लोगों को अन्य टेस्ट जैसे माइक्रो बॉयोलॉजिकल और मोलेक्यूलर टेस्ट्स पर निर्भर करना चाहिए

1 टिप्पणी:

  1. जोगासिंह जी जानकारी महत्वपूर्ण है । आपको भी बधाई बी बी सी के साथ … हम तक तो यह जानकारी आपने ही पहुंचाने का कार्य किया न !

    उत्तर देंहटाएं