लिखिए अपनी भाषा में

SCROLL

FREE होम रेमेडी पूछने के लिए फ़ोन करें 09414989423 ( drjogasinghkait.blogspot.com निशुल्क - मनोरंजन हेतू ब्लोग देखे atapatesawaldrkait.blogspot.com निशुल्क - myphotographydrkait.blogspot.com ) (१)व्यक्ति पहले धन पाने के लिए सेहत बरबाद करता है ,फिर सेहत पाने के लिए धन बरबाद करता है (२)अपने आप को बीमार रखने से बढ कर कोई पाप नहीं है (३)खड़े-खड़े पानी पीने से घुटनों में दर्द की शिकायत ज़ल्दी होती है ,बैठ कर खाने- पीने से घुटनों का दर्द ठीक हो जाता है (४)भोजन के तुरंत बाद पेशाब करने की आदत बनायें तो किडनी में तकलीफ नहीं होगी (५)ज़बडा भींच कर शौच करने /पेशाब करने से हिलाते हुए दांत/दाड़ पूरी तरहां से जम जाते हैं (६)महत्त्व इस बात का नहीं की आप कितना ऊँचा उठे हैं (तरक्की की ),महत्त्व इस बात का है की आपने कितने लोगों की तरक्की में हाथ बटाया(7)होम रेमेडी और भी हैं ,ब्लॉग विजिट करते रहें मिलते है एक छोटे से ब्रेक के बाद

कुल पेज दृश्य

मेरे बारे में

समर्थक

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

FLAG COUNTER

free counters

बुधवार, 7 मार्च 2012

एसएमएस से जानें आपकी दवा असली है या नकली


एसएमएस से जानें आपकी दवा असली है या नकली


नई दिल्ली। नकली दवाइयां बनाने और बेचने वालों पर लगाम लगाने की कवायद शुरू हो गई है। एक फॉर्मा कंपनी ने अल्फा न्यूमेरिकल कोड के जरिए नकली दवाइयों पर नकेल कसने का तरीका शुरू किया है। हालांकि फिलहाल इसे कुछ ही कंपनियों ने शुरू किया है। इसके लागू होने के बाद अब आम उपभोक्ता दवा खरीदते समय कोड का इस्तेमाल कर ये पता लगा सकेंगे कि जो दवा वो खरीद रहे हैं, वो असली है या नकली।
फॉर्मा कंपनी के मुताबिक भारत में अल्फा न्यूमेरिकल कोड की शुरुआत 2010 से ही हुई है। फिलहाल कुछ दवा कंपनियां ही इस कोड का इस्तेमाल कर रही हैं। इस कोड़ के जरिये पता लगाया जा सकेगा कि कोई भी दवा असली है या नकली। दवा के रैपर के पीछे वाले हिस्से में 9 अंकों का एक नंबर अंकित होगा। ये अंक अल्फाबेटिकल और न्यूमेरिकल दोनों होगा। इसके अलावा रैपर पर एक मोबाइल नंबर भी लिखा होगा। 9 अंकों वाले नंबर को अपने मोबाइल से एसएमएस के जरिए 990199010 पर एसएमएस कर दे। 10 सेकेंड के अंदर आपके पास एसएमएस आ जाएगा कि जो दवा आपने खरीदी है वो असली है या फिर नकली।


फिलहाल अभी कुछ कंपनियों ने ही अपनी दवाइयों में कोड का इस्तेमाल शुरू किया है। लेकिन फॉर्मा कंपनी का ये प्रयास कुछ हद तक सफल होता नजर आ रहा है। धीरे-धीरे और दवा कंपनियां भी इस पैटर्न को अपना रही है। यहां तक कि सरकार भी फॉर्मा कंपनी से बातचीत कर इसपर विचार कर रही है। अगर अल्फा न्यूमेरिकल कोड का ये पैटर्न सफल होता है तो न केवल नकली दवाइयों की खरीद बिक्री पर लगाम लगेगी, बल्कि इससे मरनेवाले लोगों की सख्या में भी कमी आएगी।

1 टिप्पणी: