लिखिए अपनी भाषा में

SCROLL

FREE होम रेमेडी पूछने के लिए फ़ोन करें 09414989423 ( drjogasinghkait.blogspot.com निशुल्क - मनोरंजन हेतू ब्लोग देखे atapatesawaldrkait.blogspot.com निशुल्क - myphotographydrkait.blogspot.com ) (१)व्यक्ति पहले धन पाने के लिए सेहत बरबाद करता है ,फिर सेहत पाने के लिए धन बरबाद करता है (२)अपने आप को बीमार रखने से बढ कर कोई पाप नहीं है (३)खड़े-खड़े पानी पीने से घुटनों में दर्द की शिकायत ज़ल्दी होती है ,बैठ कर खाने- पीने से घुटनों का दर्द ठीक हो जाता है (४)भोजन के तुरंत बाद पेशाब करने की आदत बनायें तो किडनी में तकलीफ नहीं होगी (५)ज़बडा भींच कर शौच करने /पेशाब करने से हिलाते हुए दांत/दाड़ पूरी तरहां से जम जाते हैं (६)महत्त्व इस बात का नहीं की आप कितना ऊँचा उठे हैं (तरक्की की ),महत्त्व इस बात का है की आपने कितने लोगों की तरक्की में हाथ बटाया(7)होम रेमेडी और भी हैं ,ब्लॉग विजिट करते रहें मिलते है एक छोटे से ब्रेक के बाद

कुल पेज दृश्य

मेरे बारे में

समर्थक

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

FLAG COUNTER

free counters

सोमवार, 12 मार्च 2012

अरे ,कितनी बीमारियाँ हैं,हमारे भीतर ???

अरे ,कितनी बीमारियाँ हैं,हमारे भीतर ???
हमारे शरीर में इतनी बीमारियाँ नहीं होती जीतनी हम अपनी खोपड़ी में भर लेते हैं .शरीर में सिर्फ एक ही बीमारी होती है ,जिसका नाम है " रूकावट ".शरीर में जहाँ कही भी किसी भी प्रकार की रूकावट आई वहीँ पर बीमारी पैदा हो जाती है.जैसे नाक में रूकावट से सायनस ,दिल में हो तो दौरा,किडनी - गाल ब्लाडर में हो तो पथरी ,घुटनों में हो तो गठिया ,पेट में हो तो कब्जी ,फेफड़ों में हो तो दमां आदि .उपचार है दिमाग में से बीमारियाँ निकालो ,दोस्तों-रिश्तेदारों-पड़ोसियों-डॉक्टरों ,शुभचिंतकों,द्वारा आपकी खोपड़ी में भरी बिना सर पैर की बिमारियों को निकालो और शरीर में आई रुकावटों को दूर करो .भारी-भरकम दवायों से अपने आप को बचायो .आजीवन निरोगी रहो ,स्वस्थ रहो यही कामना है .किसी का दिल दुखाना उदेश्य नहीं है.आगाह करना मेरा काम है .मानो ना मानो आपकी मर्ज़ी .

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें